Swiggy is Amma and Uber is Appa

Sometimes parents don’t make their feelings clear they just assume that their kids know of their deep love towards them but expression and that hug is always required. With the lives getting taxing and challenging- money, latest gadgets, apps has somewhere created a zone where we all feel the comfort. Our time that is supposed to be spent with our kids is spent in working hard to get them the best. Our Kids today are growing up absolutely immersed in electronic media. What we learnt at what age is something they have seen ages back. Convenience and comfort from a parent has been replaced by the applications. But we need to remember to be in your child’s memories tomorrow you need to be in their lives today.

Here is what I read today and really find it worth sharing

“Swiggy is Amma and Uber is Appa”
With children’s day just gone, I was just musing on how children ARE these days. OK, I admit they are a zillion times more smarter than us with their smartphones but what about their persona, their attitudes, interests and their general psyche?

I remember that years ago when I was a kid, a small bowl of “halwa” or “kheer” on Sunday would be a heavenly delight for all of us. We used to look forward to that big occasion and sniff the aroma of that delicious porridge wafting out of the kitchen ; take a sneak-peek to check if our moms had really added those golden cashews and raisins bobbing up and down in the milky bubbles and look anxiously at the clock to see if the needle was really moving or not, towards our lunchtime!

Today, moms are no match for Swiggy and there is no magic left on sundays too.

Chunky cheese balls, crispy french fries, or delicious desserts like Tiramisu are just a call away. No more yearning for treats and no more earning them either- it’s all just “made to order” within minutes.

No more talk of “mom’s cooking” but it’s more of “swiggy booking” these days.

Dads are no exception either. No more begging dads to drop us to the tuition, dance class or friend’s place. No more asking permissions or waiting for parents to pick up. “I’m going out today, my Uber is on my way!”

Well, Swiggy and Uber may be a blessing for working moms and dads but they have grossly eroded the fine qualities of adjustment, accommodation and appreciation in our children.

Children are becoming more demanding and selfish with no thought spared to their parent’s efforts or their own welfare. All desires are instantly satiated and there is no scope for patience or perseverance.

Dads and Moms have become ATM machines to just unload cash and satisfy the needs of children. No questions asked!

I’m not against these user-friendly apps but am only anxious that they are making our children’s value system useless. Children are becoming increasingly opinionated and self-obsessed. The values of caring and sharing are slowly on the wane.
It will be no wonder if your kid starts to feel that “Swiggy is my amma and Uber or Paytm is my Appa”.

Make children understand that life is full of imperfections and disappointments and that the beauty of life is not in the instant gratification of desires but in the patient pursuit of them.
Let life be full of simple pleasures- a little charred, a little scarred, but never marred!

Time to teach them

Credits: A close friend

An Article
Can be Forwarded
☺🙏

Money isn’t everything but everything needs money…

Its true but we do and we do that really often. On a social media site, came across this simple story, its simple, heard but still it goes the way it is, awareness is maybe just a “pretendence hashtag”.

*✳ भिखारी की नौकरी ✳*

*रंजना सिलाई मशीन पर बैठी कपडे काट रही थी*

*साथ ही बड़बड़ाये जा रही थी। उफ ये कैंची तो किसी काम की नही रही बित्ता भर कपड़ा काटने में ही उँगलियाँ दुखने लगी है।*

*पता नही वो सोहन ग्राइंडिंग वाला कहाँ चला गया।*

*हर महीने आया करता था तो कालोनी भर के लोगों के चाकू कैंची पर धार चढ़ा जाता था वो भी सिर्फ चंद पैसों में।*

*सोहन एक ग्राइंडिंग करने वाला यही कोई 20-25 साल का एक युवक था।*

*बहुत ही मेहनती और मृदुभाषी*

*चेहरे पे उसके हमेशा पसीने की बूंदे झिलमिलाती रहती लेकिन साथ ही मुस्कुराहट भी खिली रहती।*

*जब कभी वो कालोनी में आता किसी पेड़ के नीचे अपनी विशेष प्रकार की साईकिल को स्टैंड पे खड़ा करता जिसमे एक पत्थर की ग्राइंडिंग व्हील लगी हुई थी और सीट पे बैठ के पैडल चला के घुमते हुए पत्थर की व्हील पर रगड़ दे के चाक़ू और कैंचियों की धार तेज कर देता।*

*इसी बहाने कालोनी की महिलाये वहाँ इकठ्ठा हो के आपस में बातें किया करती।*

*जब वो नाचती हुई ग्राइंडिंग व्हील पर कोई चाकू या कैंची रखता तो उससे फुलझड़ी की तरह चिंगारिया निकलती जिसे बच्चे बड़े कौतूहल से देखा करते और आनन्दित भी होते ।*

*फिर वो बड़े ध्यान से उलट पुलट कर चाकू को देखता और संतुष्ट हो के कहता “लो मेम साब इतनी अच्छी धार रखी है कि बिलकुल नए जैसा हो गया।*

*अगर कोई उसे 10 मांगने पर 5 रूपये ही दे देता तो भी वो बिना कोई प्रतिवाद किये चुपचाप जेब में रख लेता।*

*मैंने अपनी पांच साल की बेटी मिनी को आवाज लगाई “मिनी जा के पड़ोस वाली सरला आंटी से कैंची तो मांग लाना जरा”। पता नही ये सोहन कितने दिन बाद कॉलोनी में आएगा।*

*थोड़ी देर बाद जब मिनी पड़ोस के घर से कैंची ले के लौटी तो उसने बताया कि उसने सोहन को अभी कॉलोनी में आया हुआ देखा है।*

*मैंने बिना समय गवाँये जल्दी से अपने बेकार पड़े सब्जी काटने वाले चाकुओ और कैंची को इकठ्ठा किया और बाहर निकल पड़ी।*

*बाहर जाके मैने जो देखा वो मुझे आश्चर्य से भर देने वाला दृश्य था।*

*क्या देखती हूँ कि सोहन अपनी ग्राइंडिंग वाली साइकिल के बजाय एक अपाहिज भिखारी की छोटी सी लकड़ी की ठेला गाड़ी को धकेल के ला रहा है और उस पर बैठा हुआ भिखारी “भगवान के नाम पे कुछ दे दे बाबा” की आवाज लगाता जा रहा है।*

*उसके आगे पैसों से भरा हुआ कटोरा रखा हुआ है। और लोग उसमे पैसे डाल देते थे।*

*पास आने पर मैंने बड़ी उत्सुकता से सोहन से पूछा “सोहन ये क्या ??*
*और तुम्हारी वो ग्राइंडिंग वाली साईकिल ??*

*सोहन ने थोड़ा पास आ के धीमे से फुसफुसाते हुए स्वर में कहा “मेमसाब सारे दिन चाकू कैंची तेज करके मुझे मुश्किल से सौ रुपये मिलते थे*

*जबकि ये भिखारी अपना ठेला खींचने का ही मुझे डेढ़ सौ दे देता है।*

*इसलिए मैंने अपना पुराना वाला काम बंद कर दिया।*

*मैं हैरत से सोहन को दूर तक भिखारी की ठेला गाड़ी ले जाते देखती रही।*

*और सोचती रही, एक अच्छा भला इंसान जो कल तक किसी सृजनात्मक कार्य से जुड़ा हुआ समाज को अपना योगदान दे रहा था आज हमारे ही सामाजिक व्यवस्था द्वारा भ्रष्ट कर दिया गया।*

एक चेतावनी भरी सीख:

*हम अनायास एक भिखारी को तो उसकी आवश्यकता से अधिक पैसे दे डालते है, लेकिन एक मेहनतकाश इन्सान को उसके श्रम का वह यथोचित मूल्य भी देने में संकोच करने लगते है जिससे समाज में उसके श्रम की उपयोगिता बनी रहे तथा उसकी खुद्दारी और हमारी मानवता दोनों शर्मिंदा होने से बच जाएँ।।*

😌😌😌😌😌😌😌

You cannot hold your head high with your hand out.